Back to Blogs

5 अक्टूबर समसामयिकी | 5 October Current Affairs

Updated : 23rd Oct 2023
5 अक्टूबर समसामयिकी | 5 October Current Affairs

5 अक्टूबर समसामयिकी | 5 October Current Affairs

  1. फिजियोलॉजी या चिकित्सा का नोबेल पुरस्कार 2023

  • हाल ही में मेडिसिन या फिजियोलॉजी/ शारीर क्रिया विज्ञान में वर्ष 2023 का नोबेल पुरस्कार कैटालिन कारिको और ड्रियू वीसमैन को मैसेंजर राइबोन्यूक्लिक एसिड (mRNA) के न्यूक्लियोसाइड बेस संशोधन पर उनके अभूतपूर्व कार्य के लिये दिया गया है।

  • इस खोज ने कोविड-19 के खिलाफ प्रभावी mRNA वैक्सीन के विकास को संभव बनाया है।

mRNA कोविड- 10 वैक्सीन की खोज के बारे में:

  • पहले के प्रयोगों में इन विट्रो प्रतिलिपित (transcribed) mRNA ने अवांछित इन्फ्लेमेटरी प्रतिक्रियाएं की थी। 

  • इसलिए, शोधकर्ताओं ने mRNA के अलग-अलग वैरिएंट्स तैयार किए। इनमें से प्रत्येक वैरिएंट के बारे (A, U, G और C) में विशेष रासायनिक परिवर्तन किए गए थे।फिर इन्हें डेंड्राइटिक कोशिकाओं तक पहुंचाया गया।

  • डॅड्राइटिक कोशिकाएं प्रतिरक्षा प्रणाली की निगरानी और वैक्सीन द्वारा प्रेरित प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को सक्रिय करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं।

  • जब क्षार संशोधनों को mRNA में समाहित किया गया तो इंफ्लेमेशन रिएक्शन लगभग समाप्त हो गए थे।

  • मैसेंजर RNA (mRNA) एक अणु होता है, जो प्रोटीन निर्माण के लिए कोशिका को निर्देश देता है। - एक बार जब प्रोटीन का संश्लेषण हो जाता है, तो प्रतिरक्षा प्रणाली इसके खिलाफ प्रतिक्रिया बढ़ा देती है।

  • कोविड-19 टीकों में संश्लेषित किया जा रहा प्रोटीन Sars-CoV-2 का स्पाइक होता है।

नोट:

  • इन विट्रो ट्रांसक्राइब्ड mRNA एक प्रकार का सिंथेटिक RNA है जिसे प्रयोगशाला में DNA टेम्पलेट और RNA पोलीमरेज़ का प्रयोग करके उत्पादित किया जाता है।

  • इसका उपयोग विभिन्न उद्देश्यों के लिये किया जा सकता है, जैसे RNA अनुसंधान, टीके या प्रोटीन निर्माण आदि ।

एमआरएनए क्या है?

  • मैसेंजर आरएनए (एक एमआरएनए) प्रोटीन संश्लेषण में शामिल एकल आरएनए का एक प्रकार है।

  • प्रतिलेखन की प्रक्रिया के दौरान डीएनए टेम्पलेट से एमआरएनए बनाया जाता है ।

  • एमआरएनए की भूमिका कोशिका के केंद्रक में डीएनए से प्रोटीन की जानकारी को कोशिका के साइटोप्लाज्म (पानी वाले आंतरिक भाग) तक पहुंचाना है, जहां प्रोटीन बनाने वाली मशीनरी एमआरएनए अनुक्रम को पढ़ती है और प्रत्येक तीन-बेस कोडन को उसके संबंधित अमीनो एसिड में अनुवादित करती है। 

  • तो एमआरएनए न्यूक्लिक एसिड का एक रूप है जो मानव जीनोम जो डीएनए में कोडित है, को सेलुलर मशीनरी द्वारा पढ़ने में मदद करता है।

mRNA वैक्सीन के लाभ:

  • यह संक्रमण नहीं फैलाती और न ही होस्ट DNA के साथ एकीकृत होती है। इस वजह से जेनेटिक कोड में बदलाव की आशंका नहीं रहती है।

  • mRNA को शीघ्रता से डिजाइन किया जा सकता है और उत्पादन बढ़ाया जा सकता है। 

  • पारंपरिक टीकों की तुलना में यह मजबूत प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया पैदा करती है।

नोबेल पुरस्कारों के बारे में:

  • ये पुरस्कार पहली बार 1901 में दिए गए थे। 

  • प्रत्येक पुरस्कार श्रेणी के तहत 10 मिलियन क्रोनर की राशि दी जाती है।

  • नोबेल पुरस्कार अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार हैं। इनका प्रशासन स्टॉकहोम (स्वीडन) में स्थित नोबेल फाउंडेशन करता है। ये पुरस्कार छह क्षेत्रों (चिकित्सा, भौतिकी, रसायन विज्ञान, साहित्य, अर्थशास्त्र और शांति) में हर साल दिए जाते हैं।

  • अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार नोबेल ने नहीं, बल्कि स्वीडन के केंद्रीय बैंक ने 1968 में स्थापित किया था।

अन्य तथ्य:

भौतिकी में नोबेल पुरस्कार

  • भौतिकी पुरस्कार विजेताओं का चयन रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंसेज द्वारा किया जाता है।

  • रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंसेज स्वीडन की शाही अकादमियों में से एक है।

  • 2 जून 1739 को स्थापित, यह एक स्वतंत्र, गैर-सरकारी वैज्ञानिक संगठन है जो विभिन्न विषयों के बीच विचारों के आदान-प्रदान को बढ़ावा देने का प्रयास करते हुए प्राकृतिक विज्ञान और गणित को बढ़ावा देने और समाज में उनके प्रभाव को मजबूत करने की विशेष जिम्मेदारी लेता है।

  • हर साल, अकादमी भौतिकी और रसायन विज्ञान में नोबेल पुरस्कार, अल्फ्रेड नोबेल की स्मृति में आर्थिक विज्ञान में स्वेरिजेस रिक्सबैंक पुरस्कार , क्राफर्ड पुरस्कार, सोजबर्ग पुरस्कार और कई अन्य पुरस्कार प्रदान करती है।





  1. रसायन विज्ञान का नोबेल पुरस्कार 2023 

  • हाल ही में रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंसेज़ ने क्वांटम डॉट्स के अभूतपूर्व आविष्कार और संश्लेषण के लिये मौंगी जी बावेंडी, लुईस ई ब्रूस तथा एलेक्सी आई एकिमोव को रसायन विज्ञान में नोबेल पुरस्कार 2023 से सम्मानित किया।

क्वांटम डॉट्स:

  • क्वांटम डॉट्स अद्वितीय गुणों वाले नैनोकण हैं, जिनकी विशेषताएं क्वांटम प्रभावों द्वारा नियंत्रित होती हैं।

  • वे स्पष्ट प्रकाश उत्सर्जित करते हैं और टेलीविजन स्क्रीन, एलईडी लैंप और चिकित्सा अनुप्रयोगों में उपयोग किए जाते हैं। 

  • क्वांटम डॉट्स अब QLED तकनीक पर आधारित कंप्यूटर मॉनिटर और टेलीविजन स्क्रीन को रोशन करते हैं। 

  • वे कुछ एलईडी लैंप की रोशनी में बारीकियां भी जोड़ते हैं, और बायोकेमिस्ट और डॉक्टर उनका उपयोग जैविक ऊतकों को मैप करने के लिए करते हैं।

नैनोटेक्नोलॉजी में योगदान

  • क्वांटम डॉट्स अब नैनोटेक्नोलॉजी के क्षेत्र में एक आवश्यक उपकरण हैं।

  • वे रंगीन रोशनी बनाने में सहायक हैं और लचीले इलेक्ट्रॉनिक्स, सेंसर, पतली सौर कोशिकाओं और एन्क्रिप्टेड क्वांटम संचार में भूमिका निभाने की कल्पना की गई है।

  • 2022 में नोबेल पुरस्कार विजेता कैरोलिन आर. बर्टोज्ज़ी, मोर्टन मेल्डल तथा के. बैरी शार्पलेस "क्लिक केमिस्ट्री और बायोऑर्थोगोनल केमिस्ट्री के विकास हेतु"








  1. अंतर्राष्ट्रीय कोरल रीफ पहल

  • हाल ही में, इंटरनेशनल कोरल रीफ इनिशिएटिव (आईसीआरआई) ने कहा कि वह कोरल पारिस्थितिकी तंत्र के संरक्षण और पुनर्स्थापन में मदद के लिए सार्वजनिक और निजी निवेश को सुरक्षित करेगा।

अंतर्राष्ट्रीय कोरल रीफ पहल के बारे में: 

  • इंटरनेशनल कोरल रीफ इनिशिएटिव (आईसीआरआई) राष्ट्रों और संगठनों के बीच एक अनौपचारिक साझेदारी है जो दुनिया भर में प्रवाल भित्तियों और संबंधित पारिस्थितिकी प्रणालियों को संरक्षित करने का प्रयास करती है।

  • आईसीआरआई को 1994 में बारबाडोस में छोटे द्वीपों के विकासशील राज्यों के सतत विकास पर संयुक्त राष्ट्र वैश्विक सम्मेलन में लॉन्च किया गया था। 

  • इसके सदस्यों में अब 45 देश शामिल हैं जो दुनिया की तीन चौथाई प्रवाल भित्तियों का प्रतिनिधित्व करते हैं।

  • नोट- भारत भी इस पहल का सदस्य देश है।

  • इसके निर्णय इसके सदस्यों पर बाध्यकारी नहीं हैं।

  • संयुक्त राष्ट्र के दस्तावेजों में आईसीआरआई के काम को नियमित रूप से स्वीकार किया जाता है , जो अंतरराष्ट्रीय क्षेत्र में पहल के महत्वपूर्ण सहयोग, सहयोग और वकालत की भूमिका पर प्रकाश डालता है।